कविता – तुमसे बेहतर लिखती हूँ, पर जज़्बात तुम्हारे अच्छे हैं

Best Poem of the Year 2020

कविता – तुमसे बेहतर लिखती हूँ, पर जज़्बात तुम्हारे अच्छे हैं: मैं तुमसे बेहतर लिखती हूँ, पर जज़्बात तुम्हारे अच्छे हैं ! मैं तुमसे बेहतर दिखती हूँ, […]

Read more

दो पीढ़ियों का अंतर – हमारा और हमारे बच्चों का बचपन

Do pidhiyon ka bachpan

छोटा सा गांव मेरा, मुट्ठी भर लोग चारो तरफ धन धान्य से परिपूर्ण खेत, फलदार बाग, फूलों से भरे बगीचे, दूर तक हरी चादर ओढ़े जमीन, लबालब […]

Read more

देश प्रेम: जिनके लिए देश पहले आता है – पूर्व नौसैनिक संदीप पाण्डेय

कोरोना की त्रासदी से समूचा देश जूझ रहा है

आज कोरोना की त्रासदी से समूचा देश जूझ रहा है। सरकार लोगों को बचाने के प्रयासों में जी जान से जुटी है। इन सरकारी प्रयासों के साथ […]

Read more

कोरोना लॉकडाउन: मानव जाति के लिए अभिशाप व प्रकृति संतुलन के लिये वरदान

लॉकडाउन का सकारात्मक पक्ष क्या है

जैसा कि हम जानते हैं कि नदियों की सफाई, जलवायु संरक्षण या प्रदूषण नियंत्रण आदि के नाम पर हर साल भारत सरकार या विश्व कि अन्य सरकार […]

Read more

लॉकडाउन का शानदार उपयोग: गांव वालों ने मिलकर १ महीने में बना दी अच्छी सड़क

लॉकडाउन का शानदार उपयोग

बात करें अगर लॉकडाउन की और आपसे पूछा जाये की इस लॉकडाउन वाले समय को बिताने के लिए आप ने क्या किया तो ज्यादातर लोगों का जबाब […]

Read more

व्यापार की ये चार कड़ियां: भूमि, पूंजी, श्रम और उद्यम – श्रमिक दिवस विशेष

व्यापार की ये चार कड़ियां: भूमि, पूंजी, श्रम और उद्यम - श्रमिक दिवस विशेष

भूमि, पूंजी, श्रम और उद्यम – किसी भी व्यापार की ये चार कड़ियां जो 18वी शताब्दी में आत्मसात की गई थी, आज भी उतनी ही सार्थक है। […]

Read more
1 2 3 4 5 8