कानपुर में लॉकडाउन को लेकर हैरान करने वाले तथ्य !

Kanpur_LockDown

काेरोना वायरस को फैलने से रोकने के और जनता को इसके लिए जागरूक करने के लिए जनता कर्फ्यू का लोगों ने भरपूर समर्थन दिया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशानुसार प्रदेश के 16 जिलों में लॉक डाउन का आदेश जारी किया गया तो कानपुर में भी उसका असर दिखने लगा। इसके पहले आज सुबह नौ बजे तक दुकानें खुली रहीं और लोग जरुरत का सामान लेने घरों से बाहर निकले लेकिन बाद में सभी वापस घरों में हो गए। नगर में हर चौक चौराहे पर पुलिस मुस्तैद रही तो शहर की सीमाओं को भी सील करने की तैयारी चल रही है।

लॉकडाउन (Lockdown) को लेकर कुछ प्रश्न आज कानपुर की सड़को पर टहलते नज़र आये:

1. लॉकडाउन (Lockdown) को और कठोर करते हुए किराना/दूध/सब्जी इत्यादि को सुबह 6 से 11 बजे तक किया गया-

पहली नज़र मे निर्णय अच्छा है लेकिन नज़ारा कुछ ऐसा दिखा कि सब्जी मंडी में भारी भीड़ उमड़ पड़ी कि 11 बजे से पहले सब्जी/फल/दूध इत्यदि ले कर रख लिया जाए।

2. जरूरी सेवाओ के कर्मियों को छोड़कर पूरी तरह से लॉकडाउन

कानपुर के अंदर और उससे लगी सीमाओं पर पुलिसिया 11 बजे के बाद बेहद शख्त नज़र आया। बैंक का समय 11 बजे तक था लेकिन अन्य सेवा जैसे संचार जो वर्क फ्रॉम होम और खुद बैंक के लिए बैकबोन है। उनको भी रोक दिया गया। मुझे उत्तरीपुरा से वापस भेज दिया गया, कार्ड दिखाने के बावजूद।
वापसी में भी हर जगह पूछताछ हुई। अगर कोई बैंक में भी है तो उसे कम से कम एक घन्टा तो लगेगा ही घर पहुंचने में।

3. रोगियों को छूट

कानपुर की सीमा बिल्हौर से एक व्यक्ति को कैंसर के इलाज के लिए एक व्यक्ति को चौबेपुर से लाना था। इलाज के कागज दिखाने के बाद उसे चौबेपुर और शिवराजपुर से तो निकलने दिया गया लेकिन उत्तरीपुरा से आगे नही जाने दिया गया।

बहुत से लोग 40-50 किमी का सफर पैदल करते नज़र आये क्योकि बैरिकेडिंग सड़क पर थी, लोग बगल की रेलवे लाइन या पगडंडी से निकल कर चले गए।

4. शुक्लागंज गंगा पुल का रास्ता बंद:

GangaPul Pe Murga Banate Log

उन्नाव-लखनऊ की तरफ जाने वाले शुक्लागंज गंगा पुल का रास्ता बैरिकेटिंग लगाकर बंद कर दिया गया है। सुबह से पुलिस बल तैनात है और आने जाने वालों को रोक दिया जिसके चलते सुबह जनता की पुलिस से झड़प भी हुई। इसके अलावा शहर की अन्य सीमाओं पर भी तैनात पुलिस बेवजह घूमने वालों को रोकती रही। कई जगहों पर तो पुलिस सख्ती का आलम ये था की लोगों को मुर्गा भी बनाया गया। शुक्लागंज प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार गौतम ने कहा कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोगों से अपील है कि शहर लॉकडाउन कर दिया गया है, अतः इसको सफल बनाने में अपने कर्तव्य का निर्वहन करें। यह जनता के हित के लिए है, इसलिए बिना वजह घरों से बाहर न निकलें।

लॉकडाउन को लेकर प्रशासन पर/का प्रेशर साफ दिख रहा है, अच्छी बात है लेकिन अगर कई दिन का लॉकडाउन है तो फीडबैक भी जरूरी है।

लेखक: मयंक मिश्रा (कानपुर)

Leave a Reply