नरेश अग्रवाल की हैसियत चपरासी से बदतर – सपा प्रवक्ता, जीतेन्द्र वर्मा जीतू

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता जितेंद्र वर्मा जीतू ने हरदोई समाजवादी पार्टी कार्यालय पर पत्रकार वार्ता कर नरेश अग्रवाल द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खिलाफ की गई बयानबाजी का करारा जवाब दिया है।

32105666_2091926564412442_3276595305616769024_n

हरदोई समाजवादी पार्टी कार्यालय पर प्रेस वार्ता करते सपा प्रवक्ता, जीतेन्द्र वर्मा जीतू

राष्ट्रीय प्रवक्ता जीतू वर्मा ने कहा कि अखिलेश यादव के समाने नरेश अग्रवाल की हैसियत उस चपरासी की तरह है जिसमे 59 साल का चपरासी 30 साल की उम्र के अधिकारी से साहब कहने की उम्मीद रखता हो, इसलिए नरेश अग्रवाल को अपने छोटे कद के हिसाब से अमर्यादित बयान देने से बचना चाहिए।

समाजवादी पार्टी सहयोग के दम पर राजनीति में इस मुकाम तक पहुंचने वाले नरेश अग्रवाल का कद व हैसियत इतनी बड़ा नही है कि वो समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के खिलाफ अमर्यादित शब्दों का उपयोग करें।

समाजवादी पार्टी नरेश अग्रवाल के द्वारा अखिलेश यादव के खिलाफ अपमानजनक भाषा की कड़ी निंदा करती हैं साथ ही समाजवादी पार्टी उन्हें चेतावनी भी देती हैं कि बीजेपी नेता नरेश अग्रवाल अपनी भाषा पर काबू रखें अन्यथा समाजवादी पार्टी उनके खिलाफ मोर्चा खोलेगी राष्ट्रीय प्रवक्ता जितेंद्र वर्मा जीतू ने कहा कि सपा कार्यकर्ताओं की शालीनता व सहनशीलता की परीक्षा न ले अगर हमने अपनी सीमा तोड़ी तो कार्यकर्ता नरेश का पुतला फूंकने के साथ उनकी अर्थी निकाल देँगे और उनके आवास पर उनका घेराव कर प्रदर्शन करेंगे इसलिए उन्हें अपनी भाषा पर लगाम रखनी चाहिए।

नरेश अग्रवाल को शायद याद हो कि जब पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री रहते हुए इन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया था तब इन्होंने दिल्ली में नेता जी के पैर पकड़ कर अपनी राजनीतिक हत्या होने का हवाला देकर मदद की भीख मांगी थी, तब नेता जी इनकी मदद करके इनकी राजनीतिक हत्या होने से बचाया था, इसके अलावा 2012 में जब बसपा सुप्रीमो ने इनके बेटे का टिकट काटकर इन्हें पार्टी से निकाला था तब भी नेता जी के पैर पकड़ लिए थे, तब नेता जी ने वर्तमान प्रत्याशी सुखसागर मिश्रा मधुर का टिकट काटकर इनकी मदद करके अपने आप पर एहसान नहीं किया था, इसलिए नरेश अग्रवाल को अपना इतिहास नही भूलना चाहिए कि वो राजनीति में सदैव समाजवादी पार्टी के सहयोग से ही यहाँ तक पहुंचे हैं, इसके बाद भी के इन्होंने समाजवादी पार्टी को धोखा दिया और  नेता जी की पीठ में छुरा भोंकने का काम किया जो व्यक्ति बार बार अपने बेटे और भगवान की कसम खाकर 3 पीढ़ी तक सपा में रहकर ईमानदारी से कार्य करने का वादा करता रहा हो और स्वार्थ के चलते व अपनी काली कमाई बचाने के चलते सत्ताधारी पार्टी में चला जाए उसे अखिलेश जी के खिलाफ बोलने का हक नही है, बीजेपी को नरेश अग्रवाल द्वारा अखिलेश जी पर की गई अमर्यादित टिप्पणी पर अपना रुख स्पस्ट करना चाहिए कि क्या वो दलबदलू नेता नरेश अग्रवाल के बयान के साथ है या इस बयान की निंदा करती हैं, सपा में बड़ा स्थान पाने वाले नरेश अग्रवाल का बीजेपी में कोई खास पद नहीं है।

ss

राष्ट्रीय प्रवक्ता जीतू वर्मा ने ये भी कहा की योगी-मोदी को बैलों की जोड़ी बताने वाला और मोदी जी को चाय वाला तथा भगवान राम को अपमानित करने वाला आज बीजेपी में ही कैसे सम्मानित किया जा रहा है, ये हमारी समझ से बाहर है।

आपको बता देता हूँ, नरेश अग्रवाल हरदोई के ही रहने वाले है यहीं पर पैदा हुए हैं, कई बार हरदोई से MLA रह चुके हैं और वो अपनी बिबादित बयान की वजह से हमेशा सुर्ख़ियों में रहते हैं। अभी कुछ दिन पहले जया बच्चन पर आपत्तिजनक टिप्पड़ी करके फिर से सुर्ख़ियों में आ गए थे।

 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *